Tuesday, February 12, 2013

नज़दीकियाँ

नज़दीकियाँ
 
दूरियों से नहीं साहेब, नजदीकियों से डर लगता है
अपने दिल के तहखाने में, वो मेरे राज़ रखता है
 
सियासी चालों की आग, हरदम सुलगती रहती है
मैं अनजान क्या जानूं, ये सब वो क्यूँ करता है
 
राम की बातें करने वाले, रावण के पक्के दोस्त,
दूसरों को दुःख देकर, उनको सुख मिलता है
 
प्यार, वफ़ा, तहज़ीब से, कुछ लेना देना नहीं
मुहोब्बत के दावे अक्सर, वो रोज़ ही करता है
 
रु-ब-रु लगता है जैसे, अज़ीम हो शख्सीयत
वार खंजर का पीठ में, बड़े जोर से करता है
 
आसमान सर पे उठाने की, हिमाकत करना आदत
हमारा सूरज पूरब से, उनका पश्चिम से निकलता है
 
सौ खून करने हैं मुझे, आज दिन भर में,
"रत्ती" ये क़सम खा के, वो घर से निकलता है