Thursday, January 3, 2019

"स्वाद"


मेरे प्यारे दोस्तों, नव वर्ष  २०१९ की हार्दिक शुभकामनाये।  एक रचना आपके समक्ष प्रस्तुत कर रहा हूँ। 


"स्वाद" 


कुछ वक़्त काटकर तेरे लिये छोड़ रक्खा है।  
तेरा इरादा न सही, मेरा मिलने का पक्का है।। 


रूह ठंडी-ठंडी सांसों में निढ़ाल सी पड़ी
आ धमकी न जाने कहाँ से मुश्किल घड़ी
कोई आहट कानों में गूंजे वार्ना धक्का है।  


इस छोर से उस छोर तक मसले ही मसले हैं 
दिल में जली-कटी कुछ हरी-भरी फसलें हैं
उम्मीदों के भले-बुरे स्वादों में "रत्ती" कड़वा ही चक्खा है



Wednesday, December 5, 2018

"क्या तूने क़दम बढ़ाया"



मित्रो आज काफी दिनों बाद एक रचना लेकर आया हूँ, उम्मीद है आपको पसंद आयेगी।   


"क्या तूने क़दम बढ़ाया"


तेरे चेहरे ने मायूसी-ओ-ग़म का हाल बताया।
दर्द जो दिल में छुपा था, उससे पर्दा न हटाया। 


ये ज़िन्दगी क्या बोझ, ढोने के लिये बनी है,
तिल-तिल मर के, सुंदर मन को जलाया।   


मोतबरों से बयां करके, कुछ हल्के हो जाते, 
ये मुतमईन सबक, किसीने नहीं सिखाया। 


ये नज़ारे, ताबूत-ओ-क़फ़न, ज़मीं  पे रह जाते हैं,
फिर किसलिये भाई, हर राज़ तूने छिपाया। 


अपनी कब्र खुद खोदते, उनको पता ही नहीं,
रब जहाँ बसे दिल में, उसे नरक बनाया।    


ज़ालिम दुनियाँ को छोड़ो, दरकिनार ही कर दो, 
खामखा, बिलावजह, सरदर्द है बढ़ाया। 


कौन तेरे वास्ते "रत्ती", कितना भला सोचे,
तू बाज़ी जीत सकता है, क्या तूने क़दम बढ़ाया।  

 

Sunday, September 2, 2018

चार लाईने - १



चार लाईने - १  

दुआयें  काम नहीं करतीं, अगर दिल साफ़ नहीं होता 
अपने आप गुनाह किसीका, कभी माफ़ नहीं होता 
सलाखों के पीछे भी कभी, कुछ दिन गुज़ारने होंगे  
जैसा तू चाहे "रत्ती" वैसे तो इन्साफ नहीं होता 

दर्पण के पन्नों से 


"सिक्सर"

"सिक्सर"



एक ही सिक्सर काफी है 
ज़िन्दगी बनाने के लिये 
तैयार रहो मौका मिलेगा 
तुम्हें आज़माने के लिये 

मौके रोज़ ही आते हैं 
झांको ज़रा उनमें तुम 
कोई दूसरा न आयेगा 
तुमको बताने के लिये 

वक़्त की मार काम की 
सिखलाती हरेक को 
सीखनेवाले में खोट है 
कोशिश नहीं कुछ पाने के लिये 
 
खुदा करम तो करेगा 
अपने क़दमों को चला 
"रत्ती" बाँधी तूने ज़ंजीरें 
पैर न उठाने के लिये 

दर्पण के पन्नों से  





संभल जाओ.....

"संभल जाओ"

घर के भीतर के अनोखे दृश्य
भयावह, प्रचंड अग्नि के कुण्ड
उसमें जलती खुशियाँ
शब्द बाणों से घायल तन और मन
ऐसे में शांति की बातें भला कैसे करेंगे ?
पीड़ा रोम-रोम में, नख से शिख तक
न कारण जानने की जिज्ञासा
न उपाय के प्रयास
के हम पीड़ित, दुखी क्यों हैं ?
"कान के कच्चे, न अपने घर के पक्के
न बात हज़म करने की शक्ति"
अक़्ल पर पड़े पर्दे
और गर्व की सीढ़ी पे चढ़ कर
गगन पर विराजमान
महाशय, टक-टकी लगाये निहारते
नोंक-झोंक की प्रतीक्षा में रहते
इर्द-गिर्द मंडराते स्वार्थी रिश्ते तो
गृह युद्ध ही करायेंगे ?
आकाश को धरती पर खींच लायेंगे
"घर की बुनियाद टूटेगी, घड़े का पानी सूखेगा" 
इसके सिवा क्या होगा ?
और रही-सही कसर सास-बहू के सीरियलों ने पूरी दी 
अग्नि में घी तो ज्वाला तेज़
ज़हन में तैरतीं वही बातें 
आप इसमें से बच के साफ़-सुथरे नहीं निकल सकते
भविष्य के अच्छे-बुरे फल
अभी आपने तय कर लिये हैं
भोगना पड़ेगा, कुदरत का क़ानून है 
सुख की चंद गिनी-चुनी घड़ियाँ
और दुख सदा आपका संगी-साथी रहेगा 
स्वयं को टटोलो, सोचो, न्याय तुम्हीं करो 
दूसरे भस्म कर देंगे
बाहें जोड़ो, कंधे मिलाओ
"रत्ती" समय है संभल जाओ.....

दर्पण के पन्नों  से


"ये वक़्त"

हरपल सवालों में हमें उलझता है
ये वक़्त रोज़ सबको खूब नाचता है
क्या राहें  आसां  न होंगी कभी,
ग़मों का कारवाँ आगे बढ़ जाता है

रहने भी दो ऐसी दिलासों की बातें
दिल टूटे हैं क्या करेंगी मुलाक़ातें 
कोई दुखी को नहीं गले लगता है

अपनी-अपनी सोच से सब दूर हो गये
कुछ उनके कुछ मेरे सपने चूर हो गये
क्या ऐसे में मन को को भाता है

क्यों ख़ाक पे बैठी हीरे सी ज़िन्दगी
क्यों फैली बदबू ज़हन में गंदगी
"रत्ती" कोई प्यार के जुमले नहीं सुनाता है

हरपल सवालों में हमें उलझता है
ये वक़्त रोज़ सबको खूब नाचता है
क्या राहें  आसां  न होंगी कभी,
ग़मों का कारवाँ  आगे बढ़  जाता है

दर्पण के पन्नों  से

  

Saturday, April 28, 2018

मित्रों, आज बहुत दिनों बाद आपके साथ कुछ साँझा करने मन हुआ, सन  २०१८ की ये मेरी पहली रचना है। 

"दीवार बन गया"

जीने का मज़ा रफ़्ता-रफ़्ता, आज़ार बन गया। 
जो पास था मेरे लम्हा, पल में ख़ार बन गया।।

ख़लाओं में गूंजती रही, तन्हाईयों  की सदा,
उजालों का मुक़्क़दर, अंधकार बन गया। 

चली आयी इक मुस्कान, आँखों में आंसू लिए,
हर वक़्त दौड़नेवाला शख़्स, लाचार बन गया। 

कश्मक़श के टोले, सोच की राहों में खड़े थे,
वो मुंसिफ था जाने कैसे, रियाकार बन गया।  

दुआओं को खरीदने लगा है, मंदिरों-मस्जिदों में,
इबादत का अनोखा सिलसिला, कारोबार बन गया।  

देनेवाले ने दी सारी नेमतें, सुब्ह होने से पहले,
माँगते-माँगते सारा जहाँ, रब का परस्तार हो गया।  

मैली-कुचैली हरकतें, हवा में तैरते गन्दे इशारे,
नापाक मन ज़हरीले बोलों का, आबशार बन गया।  

फिर सुबह गुनाह करने की, फेहरिस्त बना ली "रत्ती",
इंसां-इंसां  की तरक़्क़ी में, इक दीवार बन गया।

Wednesday, June 21, 2017

तो खुदा याद आयेगा

अंतरमन

एक बार तो झांको भीतर
मैं पुकारता हूँ, झकझोरता हूँ
संकेत देता हूँ हर क्षण
तुम हो के अपनी ही करते हो
नहीं सुनते हो किसी की
मुझे अनदेखा करके
बार-बार गलत निर्णय ही लेते हो
ठीक  है, मैं कौन होता हूँ , तुम्हें समझनेवाला
तुम्हारा मेरा सम्बन्ध क्या है ?
मैं निस्वार्थ तुम्हारे हर कार्य पर दृष्टि रखनेवाला
तुम्हारा शुभचिंतक, पथप्रदर्शक
जो चाहे कर लो तुम
दंड और ठोकरों से बच नहीं सकते
भविष्य भी चिंतित है
तुम्हारी करतूतों को देखकर
कह रहा है,कैसा कठोर है, चट्टान सा
ठोकरों को आमंत्रण दे रहा है
स्वयं भी डूबेगा और परिवार भी भुगतेगा
"दुनियां में जितने उपाय उपलब्ध हैं,
जीवन सँवारने के, सुन्दर बनाने के
उन प्रयासों के सारे किले
स्वयं ध्वस्त कर दिये "
पापों और अपराधों की फेहरिस्त
बता रही है
जो दंड होगा, बड़ा भयानक, कड़ा और दुखदायी होगा
पीड़ा हर क्षण थप्पड़ मारेगी
एक जनम तो क्या, कई जन्मों तक
पीड़ित बनकर ही जीना होगा
ये मैं नहीं कह रहा
जाओ, देखो टटोलो, अपने धर्मग्रंथों को
जो सदियों से चीख-चीख कर कह रहे हैं
सरल बनो, काँटों की डगर न चुनो
चक्षुओं से पैरों से रक्त रिसेगा 
अब के मैंने सोचा है
चुप रहूं, कुछ न कहूं तुमसे
मैं ज़िंदा लाश, कभी आकाश और धरती को देखता हूँ
यही कारण  ये जीवन नरकीय हो गया है
"रत्ती" तुमने मुझसे शत्रुता निभाई है
अंतर्मन को अँधेरी कोठरी में धकेल कर दुत्कारा है  ------
सुरिन्दर रत्ती

Monday, June 19, 2017

झूठे ख़ाब

झूठे ख़ाब 


गुनगुनाने लगे, मुस्कूराने लगे
वो ख़ाब थे झूठे, समझाने लगे
आओ गले लग जाओ, सब छोड़ के,
मेरी रूह-ओ -जिस्म को, फुसलाने लगे

बहोत सी दूरियाँ, मुक़द्दर के खेल,
सुब्हो-शाम मुझे, डराने लगे

अजीब हरकतों का, मुझसे था वास्ता,
डगर-डगर क़दम, डगमगाने लगे

प्यार की ही थी, ताउम्र जुस्तजू ,
अपने-पराये हरपल, बहकाने लगे

हम ही थे उनकी, नज़रों के सामने,
मगर दिल के राबते, बेगाने लगे

देख के भी अनदेखा, फितरत थी उनकी,
दिल-ओ-जां  को "रत्ती", वो  जलाने लगे

Thursday, February 2, 2017

गीत न. ५

गीत न. ५       
                  

मैं अपनी बेगुनाही के सुबूत देता रह गया।  
ज़मीं का रहनेवाला हूँ वो आसमां से कह गया।।
ये कौन से रिश्ते कैसे रिश्ते, क्या बला हैं, 
मोहोब्बत का इक किला पल में ढह गया।  


अभी कितने सितम देखो राहों में खड़े,
नन्हीं सी जां किस-किस से कैसे लड़े,
आसुओं भरा दिल न चाहते सब सह गया।


वह अफ़साने नहीं शोलों के अम्बार हैं,
न मुस्कान प्यार भरी, न एतबार है,
मोम सा पिघले जिस्म ज़मी पे बह गया।


अजीब दोस्ती देखी आपकी जनाबेआली,
हवा मैं तैरती हसरतें, झूठी और खाली,
"रत्ती" हसीं खाब था, खाब ही रह गया।